पुण्यतिथि पर याद किए गए शिक्षाविद् रहे पं हनुमान प्रसाद मिश्र

 

=अंगवस्त्र देकर इंजीनियर बीरेन्द्र मिश्र ने लोगों को किए सम्मानित प्राप्त किए आर्शीवाद

कप्तानगंज बस्ती, हरैया के फरेंदा जागीर नारायनपुर तिवारी गांव निवासी समाजसेवी इंजीनियर बीरेन्द्र कुमार मिश्र के पूज्य पिता विद्वान शिक्षाविद् रहे पं हनुमान प्रसाद मिश्र को उनकी द्वितीय पुण्यतिथि पर याद किया गया। सैकड़ों लोगों ने गुरूजी के नाम से प्रसिद्ध रहे श्री मिश्र को श्रद्धांजलि देते हुए उन्हें याद किया।


बुधवार की शाम इंजीनियर बीरेन्द्र कुमार मिश्र ने अपने पैतृक निवास फरेंदा जागीर पर पिता के द्वितीय पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया।कोविड का पालन करते हुए लोगों ने विद्वान शिक्षक रहे पं हनुमान प्रसाद मिश्र को श्रद्धांजलि दी। पं हनुमान प्रसाद मिश्र का जन्म 10 सितम्बर 1930 को फरेंदा के आजीवन प्रधान रहे बैजनाथ मिश्र के पुत्र के रूप में हुआ। बैजनाथ मिश्र आजादी के समय से ही गांव के प्रधान रहे।

जब तक जीवित रहे उनके खिलाफ किसी ने पर्चा नहीं दाखिल किया था। शिक्षक स्वर्गीय हनुमान प्रसाद मिश्र ने इलाके के कई विद्यालयों में सेवा दी और उनके द्वारा शिक्षित सैकड़ों छात्र अच्छे पदों पर रह चुके हैं। 1990 में सेवानिवृत्त हुए। 7 अप्रैल 2019 को बीमारी के चलते उनका निधन हो गया था।


स्वर्गीय मिश्र जी मृदुभाषी एंव मिलनसार व्यक्तित्व के धनी थे। श्री मिश्र के बारे में लोगो ने प्रकाश डालते हुए कहा कि गुरजी द्वारा दी गई सीख को कभी भुलाया नहीं जा सकता है। श्रद्धांजलि सभा में श्री मिश्र के पुत्र समाजसेवी इंजीनियर बीरेन्द्र कुमार मिश्र के अलावा देवकांत मिश्र, प्रमोद ओझा वरिष्ट पत्रकार हिन्दुस्तान, राजेश तिवारी, सुखराम गौड़, प्रदीप तिवारी, राकेश पाण्डेय,डां अरविंद मिश्रा, सुधाकर तिवारी, रवि तिवारी,अरूण मिश्र , उमेश मिश्र, रमेश मिश्रा,व्यापारी नेता जगदीश अग्रहरि, कुलदीप तिवारी, अभय तिवारी,विवेक मिश्र,पवन तिवारी,गुड्डू तिवारी,विनोद‌ गुप्ता सहित अन्य लोगो ने श्रद्धांजलि दी।


इस मौके पर समाज सेवी इंजीनियर बीरेन्द्र कुमार मिश्र ने पिता जी के पुण्यतिथि पर लोगों को अंगवस्त्र से सम्मानित कर आर्शीवाद प्राप्त किए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *