समाजसेवी के पहल से बैंक धोखाधड़ी के शिकार जमाकर्ताओं को मिला न्याय

*कुल 141जमाकर्ताओं के 40लाख रूपये का हुआ भुगतान*
इण्डेन बैंक(पूर्व इलाहाबाद बैंक)के मिनीब्रांच नरायनपुर के जमाकर्ताओं के भोलेपन व विश्वास का लाभ उठाते हुए ब्रांच संचालक व शाखा प्रबन्धक की मिली भगत से हडपे गये करोडों रूपये के प्रकरण में समाजसेवी चन्द्रमणि पाण्डेय(सुदामाजी)का मेहनत लाया रंग कुल 141जमाकर्ताओं का 40लाख रूपया बैंक व अत्याति कम्पनी द्वारा भुगतान किया गया जिसका वितरण आज शुरू हो गया पहले दिन नरायनपुर के कुल 72लोगों को बैंक पर बुलाया गया जमाकर्ताओं को लेकर बैंक पहुंचे समाजसेवी ने शाखा प्रबन्धक के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि सच की हमेशा जीत हुई है आगे भी होगा और मैं आजीवन सच व न्याय की लडाई लडता रहूंगा ग्यात हो कि श्री पाण्डेय जमाकर्ताओं का जमाधन दिलाने के लिए निरन्तर बैंक व प्रशासन के उच्चाधिकारियों के न केवल सम्पर्क में थे उन्होंने करोडो रूपये की ठगी मामले में मिनीब्रांच संचालक तत्कालीन शाखा प्रबन्धक व अत्यति कम्पनी के जोनल हेड की भूमिका की जांच कर प्रकरण में संलिप्त सभी लोगो के विरुद्ध कठोर कार्यवाही तय करते हुए जमाकर्ताओं का धन वापस कराने की मांग करते हुए इलाहाबाद बैंक के शाखा डुहवामिश्र पर बेमियादी धरना देते हुए बैंक संचालन ठप्प करने का अल्टीमेटम दे रखा था फलतः शासन प्रशासन के साथ साथ बैंक के उच्चाधिकारी सकृय हो गये फलतः पूर्व शाखा प्रबन्धक व अत्यति के जोनल हेड से हर्रैया थान्हे में गहन पूंछतांछ हुआ व बैंक ने जमाकर्ताओं का धन रिकवरी न होने की दशा में मिनीब्रांच संचालक अत्यति कम्पनी के प्रति कडा रूख अख्तियार करते हुए बैंक से सम्बद्धता समाप्त करने का हिदायत दिया व जमाकर्ताओं को बुलाकर मामले के जांच पडताल में जुट गया है आज कम्पनी के सुपरवाइजर व शाखा प्रबन्धक ने समाजसेवी संग घंटो जमाकर्ताओं के रिकॉर्ड का मिलान किया जमा पर्ची के बाद भी खाते में धन का न होना लिमिट से अधिक धन निकासी जैसी अनियमितता से स्पष्ट हुआ कि प्रकरण में उच्चाधिकारी भी संलिप्त थे। फलतः कम्पनी व बैंक कर्मियों ने संयुक्त रूप से जमाकर्ताओं के जमाधन भुगतान की व्यवस्था सुनिश्चित की फलतः जमाकर्ताओं के चेहरों पर महीनों बाद मुस्कान वापस आ गया क्षेत्र में हर कोई समाजसेवी सुदामा के इस प्रयास की सराहना कर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *